मंगलवार, 2 सितंबर 2014

इंटरनेट फ्रॉड से मोबाइल उपभोक्ता और ब्लॉग के सुधि पाठक सतर्क रहें

आजकल सारी दुनिया साइबर क्राइम से त्रस्त और आतंकित है। आप यदि क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो भी विशेष सावधानी बरतें। हो सकता है कि कोई आपसे आपके मोबाइल पर संपर्क कर कर अपने को बैंक का अधिकारी या क्रेडिट  कार्ड कंपनी का प्रतिनिधि बताए तथा आपके अकाउंट के वेरिफिकेशन चेक करने की बात कह कर आपसे पासवर्ड और अकाउंट नंबर की गोपनीय जानकारी हासिल कर ले। कई बार ये लोग आपको 20 से 30 प्रतिशत तक का अतिरिक्त छूट पाने के लिए प्रीविलेज कार्ड दिलाने के नाम पर भी ऐसी ठगी करते हैं। आए दिन अखबारों में ऐसी खबरें भी छपतीं हैं कि कार्ड को वेरिफ़ाई न करवाने पर उसे ब्लॉक कर देने का डर दिखाकर उपभोक्ता से उनके कार्ड के पिन और ओटीपी जैसे गोपनीय कोड की जानकारी हासिल कर उनके खाते से धन राशि निकाल ली जाती है। कई बार लॉटरी लगने  या  विदेशों में पड़ी संपत्ति का भागीदार बनाने के नाम पर भी लोगो को फंसाया जाता है। अभी कुछ दिनों से मेरे ब्लॉग पर भी किसी कमबख्त ने इन्टरनेट से पैसे कमाने की तरकीब बताने के लिए कोई लिंक को एक्टिवेट कर दिया है जो मेरा ब्लॉग खुलते ही स्वतः स्क्रीन पर अपनी जगह बना लेता है। और हटाने से भी नहीं हटता । मैं अपने ब्लॉग के  सभी सुधि पाठकों को सचेत कर देना चाहता हूँ कि उक्त पॉप अप विंडो किसी दूषित मालवेयर या वाइरस की वजह से है और मेरा उससे कोई संबंध नहीं है । पाठक किसी भ्रम में न रहें तथा उस पॉप विंडो में बताए किसी भी लिंक पर जाकर कोई जोखिम न उठाएँ। इससे  होने वाले किसी भी नुकसान के लिए यह ब्लॉग लेखक उत्तरदायी नहीं होगा।  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें